Ayurveda Course 2021,2022- Eligibility, Admission, Scope Careers & Salary

Ayurveda ALL INDIA Course 2021, Eligibility, Admission, Scope Careers& Salary

Eligibility Criteria (UG & PG) of Ayurveda

  • Mentioned below is the eligibility criteria for admission to undergraduate or postgraduate level of Ayurveda course:

Eligibility Criteria for Undergraduate Program- Bachelors of Medicine and Surgery (BAMS)

  • Students must have passed 10+2 level or equivalent examinations along with the subjects of English, Physics, Chemistry and Biology from recognized board/institution.

  • Aspirant must have completed the age requirement as prescribed by various universities offering undergraduate program

  • Candidate must score a minimum of 50% in 10+2 level

  • Aspirants must have a valid score in NEET.

Eligibility Criteria for Postgraduate Programs- M.S in Ayurveda

  • Candidates who have passed BAMS course along with 6 months or 1 year house job can apply. House job refers to the clinical experience under supervision before one starts his/her own practice as a physician.

  • Also, students who have passed the MBBS course recognized by the Medical Council of India can also apply.

Scope of Ayurveda in India and Abroad

On completing ayurveda course, many ayurveda clinics demand for good ayurveda doctors who are good at administering steam therapies, oil messaging, meditation and exercise. Also, after completing ayurveda course one can opt for teaching Ayurveda subjects in colleges. Many can opt to start their private practice or get hired to pharma companies. Some of the areas where employment can be sought are:

An Ayurvedic Pharmacist is capable of managing raw and finished products and is qualified to dispense Ayurvedic drugs at hospitals and dispensaries. Diploma holders typically find jobs at Ayurveda centers and hospitals or at pharmaceutical companies.
Ayurvedic treatment is although highly effective; proper mode of action, pharmacology, pharmacokinetics, and pharmacovigilance of many important Ayurvedic drugs are still not fully explored.
  • Specialized clinics

  • Private clinics

  • Hospitals

  • Government sector

  • Corporate Research Units

  • Pharmaceutical companies

  • Ayurvedic Pharmacies

  • Healthcare Administration Centres

Course Subjects

The ayurveda courses include the subjects to have sound knowledge of Ayurvedic principles and to meet the demand of skilled experts. After studying the subjects at following levels the practitioner must be capable of producing standard and cost-effective ayurvedic medicines.

Let’s have look at the subjects taught at different levels

Syllabus of Bachelor of Pharma (Ayurveda) Course

First Year

  • Rasa Shastra and Bhaishajya Kalpana – 1

  • Dravyaguna Vijnana – 1

  • Ayurveda Sharir Kriya Evam Rachana Vigyana

  • Pharmaceutical Chemistry (Inorganic and Organic)

  • Pharmaceutical Biology

  • Anatomy and Physiology

  • Sanskrit

  • Fundamentals of Ayurveda including Swastha vritta

Second Year

  • Rasa Shastra and Bhaishajya Kalpana – II

  • Dravyaguna Vijnana – II

  • Dosha, Dhatu, Mala Vijnana

  • Pharmacognosy of Ayurvedic Drugs – I

  • Pharmaceutical Biochemical Analysis of Ayurvedic Drugs -I

  • Pharmaceutical Technology of Ayurvedic Drugs – I

  • Pharmaceutics – Physical Pharmacy

Third Year

  • Rasa Shastra and Bhaishajya Kalpana – III

  • Dravyaguna Vijnana – III

  • Pharmacognosy of Ayurvedic Drugs – II

  • Pharmaceutical Analysis of Ayurvedic Drugs – II

  • Pharmaceutical Technology for Ayurvedic Drugs –II

  • Pharmaceutical Engineering

  • Pharmacology & Toxicology of Ayurvedic Drugs –I

Fourth year

  • Rasa Shastra and Bhaishajya Kalpana-IV

  • Pharmaceutical Analysis of Ayurvedic Drugs-III

  • Pharmaceutical technology for Ayurvedic Drugs-III

  • Pharmaceutical Microbiology

  • Pharmacology & Toxicology of Ayurvedic Drugs – II

  • Forensic Pharmacy Acts Rules & Regulations & Pharmaceutical Management

Syllabus for Post-Graduate Course in Ayurveda

First year

Paper 1- Research Methodology and Biostatistics

Part A- Research Methodology

Introduction to research

General guidelines and steps in research

Preparation of research proposals

Scientific writing and publication skills

Classical methods of research

Comparison between methods of research in Ayurveda

Different fields of research in Ayurveda

Literary research

Drug research

Safety aspects

Introduction to latest trends in drugs discovery and development

Clinical research

Part B- Medical Statistics

Definition of statistics

Collection, classification, presentation, analysis and interpretation of data

Scales of measurement

Measures of central tendency

Variability

Normal distribution

Fundamentals of testing of hypotheses

Univariate analysis of categorical data

Parametric tests

Non- parametric methods

Correlation and regression analysis

Sampling and sample size computation for Ayurvedic research

Vital statistics and Demography

Familiarization with the use of Statistical software

Practicals

Paper 2- Concern Subject:

1. Ayurved Samhita  & Siddhanta

2. Rachana Sharir

3. Kriya Sharir

4. Dravyaguna Vigyan

5. Rasa Shastra & Bhaishajya Kalpana

6. Agada Tantra Evum Vidhi Vaidyaka

7. Swasthavritta

8. Roganidan Evum Vikriti Vigyan

9. Chhaya Evum Vikiran Vigyan

10. Kayachikitsa

11. Manovigyan Evum Manasroga

12. Rasayan & Vajikaran

13. Panchkarma

14. Prasuti Evum Stri Roga

15. Kaumarbhritya-bala Roga

16. Shalya -samanya

17. Shalya – Kshar Evum Anushastra Karma

18. Asthi Sandhi And Marmagat Roga

19. Sangyaharan

20. Shalakya – Netra Roga

21. Shalakya – Danta Evum  Mukha Roga

22. Shalakya- Shiro-nasa-karna Evum Kantha Roga

Syllabus for Post-Graduate Diploma Course in Ayurveda

Students can attain speciality in any of the following:

  • Ayurvedic Pharmaceutics

  • Ayurvedic Dietetics

  • Balroga

  • Manasik Swasthya Vigyan

  • Netra Roga Vigyan

  • Prasuti and Striroga

  • Dravyaguna

  • Panchkarma

  • Swasthavritta and Yoga

  • Rasayan and Vajikaran

  • Ayurvedic Cosmetology and Skin

  • Kshar-Karma

  • Rog Nidan Vidhi

  • Ayurvedic Sangyaharan

  • Chhaya evam Vikiran Vigyan

Career for Pharmacist at GSFDCL

  • राष्ट्रीय कृषि आयोग (एनएसी) ने वानिकी क्षेत्र की प्रगति और विकास में तेजी लाने के लिए प्रत्येक राज्य में वन विकास निगमों की स्थापना की सिफारिश की। गुजरात राज्य वन विकास निगम लिमिटेड (जीएसएफडीसी) अगस्त 1976 में स्थापित किया गया था और कंपनी अधिनियम 1956 के तहत पंजीकृत किया गया था। 1979 में गुजरात में लघु वन उत्पाद (एमएफपी) व्यापार का राष्ट्रीयकरण किया गया था। इसके क्रियान्वयन का जिम्मा निगम को सौंपा गया था। इसका अर्थ था अपनी कॉर्पोरेट स्थिति को न्यायोचित ठहराते हुए एसटी, एससी और अन्य कमजोर वर्गों के आर्थिक हितों की रक्षा करने की राज्य नीति का जमीनी अनुवाद करना। इस निगम को सरकार से कोई अनुदान और बजटीय सहायता नहीं मिलती है।

पद: आयुर्वेदिक फार्मासिस्ट

योग्यता:
1. आयुर्वेद या आयुर्वेदिक फार्मेसी, सिद्ध या यूनानी चिकित्सा पद्धति में एक डिग्री, जैसा भी मामला हो, विश्वविद्यालय, राज्य सरकार के सांविधिक संकायों, परिषदों और भारतीय चिकित्सा प्रणाली के बोर्ड द्वारा प्रदान किया जाता है जो केंद्र सरकार या राज्य सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त है। यह उद्देश्य या
2. इस उद्देश्य के लिए राज्य सरकार या केंद्र सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त संस्थान द्वारा प्रदत्त आयुर्वेद, सिद्ध या यूनानी चिकित्सा पद्धति में डिप्लोमा, या
3. केंद्र सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से फार्मेसी या फार्मास्युटिकल केमिस्ट्री या केमिस्ट्री या बॉटनी में स्नातक, आयुर्वेदिक या सिद्ध या यूनानी चिकित्सा पद्धति से संबंधित दवाओं के निर्माण में कम से कम दो साल का अनुभव या
4. एक वैद्य या हकीम जो राज्य रजिस्टर में पंजीकृत दवाओं की स्वदेशी प्रणाली का व्यवसायी है, जिसे सिद्ध या यूनानी दवाओं के निर्माण में कम से कम चार साल का अनुभव है, या
5. आयुर्वेदिक (सिद्ध सहित) या यूनानी चिकित्सा पद्धति में फार्मासिस्ट के रूप में योग्यता, आयुर्वेदिक या सिद्ध या यूनानी दवाओं के निर्माण में कम से कम आठ वर्ष का अनुभव रखने वाला, जैसा कि केंद्र सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त हो।

अनुभव: 33 वर्ष से अधिक नहीं

वेतन : 20,000/- रुपये प्रति माह (समेकित)

अवधि : ११ महीने

नौकरी स्थान: वडोदरा

  • जिम्मेदारियों

1) जीएमपी (गुड मैन्युफैक्चरिंग प्रैक्टिस) मानक के अनुसार उत्पादन कार्य।
2) उत्पादन इकाई में वर्तमान में निर्मित उत्पादों की गुणवत्ता को सत्यापित करना और गुणवत्ता में परिवर्तन करना आवश्यक है ताकि द्वितीयक वन उत्पादों का अधिकतम मूल्य प्राप्त किया जा सके।
3) नए पेटेंट और मालिकाना उत्पादों के उत्पादन और बिक्री के लिए अनुमोदन प्राप्त करने पर काम करना।
४) शास्त्र जड़ी बूटियों के निर्माण और बिक्री के लिए अनुमोदन प्राप्त करने पर कार्य करना।
5) आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों के उत्पादन में सहायता करना जो उत्पादन के लिए स्वीकृत हैं।
6) उत्पादन इकाई में इकाई के बारे में एक स्वच्छ दृष्टिकोण अपनाएं और उस संबंध में श्रमिकों का प्रशिक्षण और समझ रखें।
7) खाद्य एवं औषधि विनियमन प्रणाली, गांधीनगर एवं विभिन्न कार्यालयों के साथ उत्पादन एवं लाइसेंसिंग आदि से संबंधित कार्यों का समन्वय करना।
8) उत्पादन इकाई में कार्यरत कर्मचारियों को समय-समय पर विभिन्न प्रकार का प्रशिक्षण प्रदान करना। मौजूदा उत्पादों के साथ-साथ नए उत्पादों के उत्पादन के लिए उत्पादन प्रक्रिया में जहां आवश्यक हो वहां नई मशीनों और उपकरणों की खरीद पर आवश्यक मार्गदर्शन प्रदान करें।
9) उत्पादन प्रक्रिया में उत्पाद की गुणवत्ता बनाए रखने और इसे मानक बनाने और मानक नमूने एकत्र करने और बनाए रखने के लिए आवश्यक सभी कदम
10) उत्पाद से संबंधित सभी रिकॉर्ड बनाए रखने होंगे।

  • इच्छुक उम्मीदवार आवश्यक दस्तावेजों के साथ गुजरात राज्य वन विकास निगम लिमिटेड 78 – वंगंगा, अलकापुरी, वडोदरा – 380 007 गुजरात, भारत में विस्तृत अधिसूचना पढ़ें और आवेदन पत्र डाउनलोड करें।

Careers in Ayurveda

Earlier, after completing the ayurveda course the only option that a person was left with was starting one’s own practice. However, with change in time, today one has many promising career opportunities available. While selecting the career students must know his/her area of interest and pursue accordingly. Some of the career opportunities are:

  • Clinical practice

  • Academic

  • Management and Administration

  • Drug Manufacturing

  • Research

  • Teacher

 

Clinical practice

Students who have completed ayurveda course must know in detail about Ayurvedic Samhitas.Student must be well versed with modern medical science. Students can opt for specialized practice for instance, therapy of spinal disorder, skin diseases, ano-rectal diseases, ophthalmologic conditions, and so forth. In such therapies, Ayurveda has a crucial role to play.

Also as per Indian traditions students can opt for Ayurvedic practices like Nadi Pariksha, Panchbautik Chikitsa, Dhatu Chikitsa and so forth. Also one can indulge in various therapies like Panchkarma, Ayurvedic dietetics, Physiotherapist, Yoga and etc.

 

Academics

One must have completed his/her post graduation in Ayurveda to pursue a career in Academics. Students after completing the post graduation or diploma course can join government or private colleges as lecturers and demonstrators. Students can opt for tuition classes for Ayurveda courses.

 

Management and Administration

Students who don’t have interest in medical practice however want to be related to medical fields that can opt for courses like sports medicine, industrial management, preventive and promotive health care and so forth and can enter government sector as administrator.

 

Drug Manufacturing

Production of Ayurvedic medicine is booming business in today’s life. Trading raw materials, cultivation of medicinal plants in the form of oil, powder and other cosmetics are in huge demand. Also, many Ayurvedic food products have equal demand in the market. In this time of need students who have completed ayurvedic course can utilize their knowledge and skills in producing ayurvedic medicines.

 

Research

Students opting for various courses in Ayurveda apart from MD and PhD can have great careers in research. On completion of the course students can get jobs as Clinical Research Associate in pharmaceutical companies and research units.

 

Teacher

To become a Ayurveda teacher and build a career in this field, students must complete their post graduation in MD or diploma in any subject as per their interest. Students after completing their post graduation can apply for the post of teacher in schools or colleges.

 

Other Career Options

Other than above mentioned career options students can opt for the following options as well:

  • Medical tourism

  • Medical event management

  • Medical transcription

  • Medical journalism

  • Medical documentation or photography

  • Legal medical advisor.

  • Laboratories

  • Private super speciality hospitals

Job Profiles and Top Recruiters

Students after completing their Ayurveda course can opt for various career opportunities and can work along with top recruiters to gain relevant experience and practice. Some of the job profiles that one can opt for after completing the Ayurveda courses are:

  • Therapist

  • Pharmacist

  • Medical representative

  • Ayurvedic doctor

  • Assistant claim manager health

  • Jr. Clinical trial coordinator

  • Lecturer

 

Top Recruiters 

  • Healthcare communities

  • Healthcare IT

  • Nursing home

  • Panchakarma ashram

  • Government/private hospitals

  • Dispensaries

  • Research institutes

  • Spa resort

  • Pharmaceuticals companies

  • Life science industry

Average Salary

The salary after completing ayurveda course varies depending upon the role opted by the practitioner. The salary after completing ayurveda course ranges between Rs 20,000 per month to INR 50,000 per month. However, it differs from role to role. The salary for post graduates is comparatively higher, their stipend ranges between Rs 40,000 to 50,000 per month.

Required Skillset for Ayurveda

Ayurveda courses can be opted by the students who have keen interest in medicinal treatment and learning. Students aspiring to pursue ayurveda course must consist of the following skill sets or develop the same by the end of the course:

  • Decision making ability

  • Empathy

  • Observation

  • Interest in medicinal property of herbs

  • Patience

  • Counselling skills

  • Concentration

Course Curriculum for Ayurveda

Course Curriculum for BAMS

BAMS course is a 5.5 years program, wherein 4.5 years are academic studies and last one year is internship. Each academic year is divided into 1.5 years. Check the curriculum of BAMS year wise.

 

First professional course

  • History of the Ayurvedic system

  • Basic principles of Ayurveda

  • Anatomy

  • Physiology

Second professional course

  • Toxicology

  • Pharmacology

  • Ayurvedic Pharmaceutical Science

Third and final professional course

  • Modern anatomy

  • Principle of surgery

  • ENT

  • Skin

  • Obstetrics

  • Gynaecology

  • Pediatrics

  • Internal Medicine

Course Curriculum for Post Graduate Program

Paper 1- Research Methodology and Biostatistics

Paper 2- Concern Subject:

1. Ayurved Samhita  & Siddhanta

2. Rachana Sharir

3. Kriya Sharir

4. Dravyaguna Vigyan

5. Rasa Shastra & Bhaishajya Kalpana

6. Agada Tantra Evum Vidhi Vaidyaka

7. Swasthavritta

8. Roganidan Evum Vikriti Vigyan

9. Chhaya Evum Vikiran Vigyan

10. Kayachikitsa

11. Manovigyan Evum Manasroga

12. Rasayan & Vajikaran

13. Panchkarma

14. Prasuti Evum Stri Roga

15. Kaumarbhritya-bala Roga

16. Shalya -samanya

17. Shalya – Kshar Evum Anushastra Karma

18. Asthi Sandhi And Marmagat Roga

19. Sangyaharan

20. Shalakya – Netra Roga

21. Shalakya – Danta Evum  Mukha Roga

22. Shalakya- Shiro-nasa-karna Evum Kantha Roga

Course Fees Ayurveda

Minimum Fees Maximum Fees
Private Govt. Private Govt.
UG
60.00 K
8.30 K
27.50 Lakhs
3.04
Lakhs
PG
60.00 K
15.00 K
1.11 Crores
6.00
Lakhs
DOCTORAL
2.40 Lakhs
16.00 K
15.00 Lakhs
1.72
Lakhs
DIPLOMA
20.00 K
16.90 K
4.50 Lakhs
6.00
Lakhs

Ayurvedic pharmacist vacancy in up 2021

 JOB Official Website  JOB Official Website
 JOB Official Website  JOB Official Website

नवीनतम आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरियां अपडेट 2021

  • हम में से अधिकांश विभिन्न कारणों से सार्वजनिक क्षेत्र की नौकरियों में काम करना पसंद करते है। क्या आप Destination नौकरियां 2021 की खोज कर रहे हैं? यदि हां, तो आपकी खोज यहां समाप्त होती है। हर साल, विभिन्न क्षेत्रों में भारत सरकार द्वारा बड़ी संख्या में पदनामों को जारी किया जाता है। सार्वजनिक और निजी दोनों क्षेत्रों में आयुर्वेद फार्मेसिस्ट की नौकरियों की तलाश में रहने वाले अभ्यर्थी इसे प्राप्त कर सकते हैं। नौकरी, अनुभव की आवश्यकता, शिक्षा, आयु सीमा, लागू प्रक्रिया, और अधिक के विस्तृत विवरण के साथ नवीनतम आयुर्वेद फार्मेसिस्ट 2021 प्रदान करता है।

 नवीनतम उपलब्ध आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरियां

  • इस पृष्ठ को आगे पढ़कर आप पूरे भारत में विभिन्न स्थानों में उपलब्ध आयुर्वेद फार्मेसिस्ट 2021 की सूची जान सकते हैं। हम इस पृष्ठ पर Designation नौकरियों की सभी आवश्यक जानकारी अपडेट करते हैं। यह नौकरी तलाशने वालों को उपलब्ध नौकरी के उद्घाटन के बारे में अधिक जानने में मदद करता है। आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरी 2021 के बारे में आप यहां जानकारी प्राप्त कर सकते हैं, आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरियां अधिसूचना 2021विस्तृत नौकरी विवरण शैक्षिक योग्यता, आयु सीमा, चयन प्रक्रिया, वेतनमान और अधिक आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरियों की आवेदन लिंक आवेदन शुल्क आवेदन प्रक्रिया एडमिट कार्ड डाउनलोड लिंक यहां हम राज्य और केंद्र सरकार, रेलवे, यूपीएससी, भारतीय नौसेना, वायु सेना, राज्य पीएससी, सार्वजनिक क्षेत्र की इकाई (पीएसयू), बैंकिंग, रक्षा और एसएससी में उपलब्ध आयुर्वेद फार्मेसिस्ट 2021 उद्घाटन को अपडेट करते हैं। उपर्युक्त क्षेत्रों में उपलब्ध नौकरी के उद्घाटन को जानने के लिए यहां आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरियों की सूची देखें।

कौनसी आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरियां शामिल है

  • आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरियां 2021 प्रदान करता है, बल्कि शिक्षक, व्यवसाय विश्लेषक, अस्पताल फार्मासिस्ट, इलेक्ट्रिकल इंजीनियर, सहायक प्रोफेसर, व्याख्याता, एयर होस्टेस, कंप्यूटर ऑपरेटर, कंपनी सचिव, बिक्री इंजीनियर, क्षेत्र प्रबंधक, कंप्यूटर शिक्षक, महाप्रबंधक, निजी सचिव, पर्यवेक्षक, नेटवर्क इंजीनियर, डेटा विश्लेषक, रेडियो जॉकी, कानूनी प्रबंधक, क्लर्क, रेडियोलॉजिस्ट, मार्केटिंग मैनेजर, मेडिकल लैब तकनीशियन, सुरक्षा अधिकारी, नेटवर्क सुरक्षा प्रशासक और ऑनलाइन मार्केटिंग कार्यकारी जैसे अन्य पदनामों के लिए भी नौकरियां प्रदान करता है। विभिन्न कंपनियां हर साल आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरियां 2021 जारी करती हैं और यहां पूरे भारत के सभी स्थानों से आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरियों के उद्घाटन हैं। दोनों फ्रेशर्स और अनुभवी उम्मीदवारों के लिए सभी हाल ही में आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरियों को अपडेट करता है। उम्मीदवार जो भारत भर में आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरियां 2021 की तलाश में हैं, वे यहां प्राप्त कर सकते हैं। हमने सभी नवीनतम Designation जॉब्स को इकट्ठा किया है और आपको आवश्यक सभी जानकारी के साथ यहां अपडेट किया गया है।नौकरी चाहने वाले इस पेज को अप-टू-डेट जानकारी के लिए देख सकते हैं। विभिन्न क्षेत्रों से हाल ही में और आगामी आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरियां जानने के लिए पढ़ना जारी रखें।

नवीनतम आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरियां 2021 अप्लाई करने के लिए प्रक्रिया

  • नौकरी चाहने वालों को  पर भारत भर में सभी क्षेत्रों से उपलब्ध Designation नौकरियों की पूरी सूची मिल सकती है। हम सभी नवीनतम और आगामी आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरियां इकट्ठा करते हैं और आपके संदर्भ के लिए यहां सूचीबद्ध करते हैं। परेशानी से मुक्त तरीके से आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरियां 2021 के लिए आवेदन करने के लिए नीचे दिए गए चरणों की जाँच करें।
    1. सबसे पहले,  पर आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरियां 2021 पेज पर जाएं
    2. उसके बाद, इस पृष्ठ में उपलब्ध सभी नवीनतम Designation 2021 की जांच करें
    3. आप जिस विशेष नौकरी के लिए आवेदन करना चाहते हैं, उस पर क्लिक करें
    4. नौकरी का पूरा विवरण पढ़ें
    5. शैक्षिक योग्यता, आवेदन प्रक्रिया, आयु सीमा, चयन प्रक्रिया, और बहुत कुछ जांचें
    6. यदि आप वहां वर्णित पात्रता शर्तों को पूरा करते हैं, तो Designation नौकरियां 2021 के लिए आवेदन करें
    7. सभी आवश्यक विवरण भरें और अंतिम तिथि से पहले जमा करें

 योग्यता के लिए आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरियों की जाँच करें

  • सार्वजनिक क्षेत्र की नौकरियां भारत में अत्यधिक खोजी जाने वाली नौकरियां हैं। इन दिनों में, हम में से अधिकांश लोग निजी क्षेत्र की तुलना में सार्वजनिक क्षेत्र में काम करना चाहते हैं। आप इस पेज पर सभी तरह की नौकरियों को प्राप्त कर सकते हैं। सरकार 8 वीं पास से लेकर स्नातकोत्तर तक सभी नौकरी करने वालों के लिए अच्छे वेतन के साथ नौकरी के अवसर जारी करती है।  आंध्र प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, असम, बिहार, छत्तीसगढ़, गोवा, गुजरात, उत्तर प्रदेश, पांडिचेरी, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू और कश्मीर, झारखंड, महाराष्ट्र, मणिपुर, मेघालय, नागालैंड, ओडिशा, पंजाब, राजस्थान, सिक्किम, तमिलनाडु, कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, तेलंगाना, त्रिपुरा, उत्तराखंड, और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में उपलब्ध आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरियों को सूचीबद्ध करके नौकरी करने वालों के लिए एक माध्यम के रूप में कार्य करता है।

 आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरियां 2021 अपडेट प्राप्त करें

  • पूरे भारत में नवीनतम सरकारी और निजी Designation नौकरियों की तलाश कर रहे नौकरी चाहने वाले इस पृष्ठ का उपयोग कर सकते हैं।  जॉब हंटर्स के लिए सभी आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरियां 2021 की नवीनतम अधिसूचनाओं को प्रदान करने के लिए यहां है। मुफ्त ईमेल जॉब अलर्ट की सदस्यता लेकर, आप आयुर्वेद फार्मेसिस्ट नौकरियों के नवीनतम अपडेट अपने मोबाइल या डेस्कटॉप पर प्राप्त कर सकते हैं। विभिन्न क्षेत्रों से लगभग 1 लाख आयुर्वेद फार्मेसिस्ट रोजगार के अवसर उपलब्ध हैं। उम्मीदवार जो राज्य और केंद्र, यूपीएससी, पीएससी, रेलवे, बैंक, जैसे विभिन्न क्षेत्रों में आयुर्वेद फार्मेसिस्ट की नौकरियों में रुचि रखते हैं, वे यहां प्राप्त कर सकते हैं।
अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (एफएक्यू)
प्रश्न: बीएएमएस कोर्स करने के लिए पात्रता मानदंड क्या है?
उत्तर: छात्रों को मान्यता प्राप्त बोर्ड / संस्थान से कुल अंकों में न्यूनतम 50 से 60% अंक हासिल करने के साथ-साथ साइंस स्ट्रीम (भौतिकी, जीव विज्ञान और रसायन विज्ञान विषयों) के साथ कक्षा 12 वीं पूरी करनी चाहिए।
प्रश्न: आयुर्वेद पाठ्यक्रम के लिए आवश्यक बुनियादी कौशल सेट क्या हैं?
उत्तर: आयुर्वेद पाठ्यक्रम को आगे बढ़ाने के लिए छात्रों के पास निर्णय लेने की क्षमता, सहानुभूति, अवलोकन, जड़ी-बूटियों की औषधीय संपत्ति में रुचि, धैर्य, परामर्श कौशल और एकाग्रता जैसे निम्नलिखित कौशल होने चाहिए।
प्रश्न: आयुर्वेद का कोर्स पूरा करने के बाद टॉप रिक्रूटर्स कौन से हैं?
उत्तर: आयुर्वेद पाठ्यक्रम स्नातकों के लिए कुछ शीर्ष भर्तीकर्ता बैद्यनाथ, पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड, सूर्य हर्बल लिमिटेड, हिमालय ड्रग लिमिट्स, झंडू फार्मास्यूटिकल्स वर्क्स लिमिटेड हैं।
प्रश्न: आयुर्वेद पाठ्यक्रम के लिए अनुमानित शुल्क क्या है?
उत्तर: आयुर्वेद पाठ्यक्रम के लिए शिक्षण शुल्क की सीमा रुपये से भिन्न होती है। 10,000 से रु. 1,00,000 प्रति वर्ष।
प्रश्न: विभिन्न आयुर्वेद पाठ्यक्रमों की अवधि क्या है?
उत्तर: विभिन्न आयुर्वेद पाठ्यक्रमों की अवधि- यूजी कार्यक्रम- 5.5 वर्ष और पीजी कार्यक्रम- 3 वर्ष
प्रश्न: आयुर्वेद का कोर्स करने के बाद करियर के क्या विकल्प हैं?
उत्तर: आयुर्वेद पाठ्यक्रम पूरा करने के बाद, छात्र नैदानिक ​​अभ्यास, अकादमिक, प्रबंधन और प्रशासन, दवा निर्माण, अनुसंधान और शिक्षक जैसे निम्नलिखित करियर विकल्पों का चयन कर सकते हैं।



Copyright © 2018-2025 RojgarTak.com All Rights Reserved RojgarTak