UPHESC Recruitment 2021: असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती का आवेदन बिना एनओसी भी मान्य

UPHESC Recruitment 2021: असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती का आवेदन बिना एनओसी भी मान्य

https://www.rojgartak.com/

UPHESC  Recruitment 2021: प्रदेश के अशासकीय सहायता प्राप्त महाविद्यालयों में असिस्टेंट प्रोफेसर के 2003 पदों पर भर्ती के लिए आवेदन बिना अनापत्ति प्रमाणपत्र (एनओसी) के भी मान्य होगा। उत्तर प्रदेश उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग की सचिव वंदना त्रिपाठी का कहना है कि पूर्व की तरह साक्षात्कार के समय एनओसी दे सकते हैं।

ऑनलाइन आवेदन के समय ही पूर्व से सेवारत अभ्यर्थियों से संबंधित विभागों का एनओसी मांगे जाने से परेशान थे। अभ्यर्थियों को लग रहा था कि बिना अनापत्ति प्रमाणपत्र लगाए फॉर्म भरने पर कहीं निरस्त न हो जाए। गौरतलब है कि पंजीकरण की अंतिम तिथि 26 मार्च है।

UPHESC Assistant Professor Recruitment 2021 Details

UPHESC Assistant Professor Recruitment 2021 : उत्तर प्रदेश उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग ने प्रदेश के सहायता प्राप्त डिग्री कॉलेजों में रिक्त असिस्टेंट प्रोफेसर के 2002 पदों के लिए भर्ती प्रक्रिया गुरुवार से शुरू कर दी। यह भर्ती आयोग के विज्ञापन संख्या 50 के तहत होगी, जिसमें कुल 49 विषय शामिल हैं। खास बात यह है कि भर्ती में आठ विषय ऐसे हैं, जिनमें पदों की संख्या 100 से अधिक है। सर्वाधिक 162 पद हिन्दी में हैं।

इस भर्ती के लिए आयोग ने नई वेबसाइट www.uphesc2021.co.in बनाई है। इस वेबसाइट पर अभ्यर्थियों के रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया शुरू हो गई है। रजिस्ट्रेशन करने वाले अभ्यर्थी 27 फरवरी की शाम 6 बजे से ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे। आवेदन के लिए रजिस्ट्रेशन एवं फीस जमा करने की आखिरी तिथि 26 मार्च निर्धारित की गई है। फीस जमा करने के बाद अभ्यर्थी 27 मार्च तक ऑनलाइन आवेदन पत्र सबमिट कर सकेंगे। लिखित परीक्षा चार चरणों में कराई जाएगी।

आयोग की ओर से जारी विज्ञापन के अनुसार हिन्दी में सर्वाधिक 162 पद हैं। इसके अलावा सात विषय ऐसे हैं जिसमें पदों की संख्या 100 से अधिक है। रसायन विज्ञान में 159, भूगोल में 142, अंग्रेजी में 133, बीएड में 113, राजनीतिशास्त्र में 109, समाजशास्त्र में 102, अर्थशास्त्र में 100 पद हैं। उद्यान विज्ञान में 7, उर्दू में 10, कृषि आनुवांशिकी एवं पादप प्रबंधन में 4, एशियन कल्चर में 1, कीट विज्ञान में 5, कृषि अभियंत्रण में 8, कृषि अर्थशास्त्र में 7, कृषि प्रसार में 11, कृषि रसायन में 11, कृषि वनस्पति में 7, कृषि सांख्यिकी में 6, गृह विज्ञान में 12, चित्रकला में 4, जैव रसायन में 1, दर्शनशास्त्र में 6, पशुपालन एवं डेयरी में 2, पशुपालन एवं दुग्ध विज्ञान में 8, पादप रोग विज्ञान में 5, प्राचीन इतिहास में 24, प्राणी विज्ञान में 96, भूगर्भ विज्ञान में 4, भूमि संरक्षण में 2, भौतिक विज्ञान में 98, मनोविज्ञान में 66, वनस्पति विज्ञान में 92, वाणिज्य में 79, शारीरिक शिक्षा में 23, शिक्षा शास्त्र में 40, संगीत गायन में 12, संस्कृत में 74, सांख्यिकीय में 18, समाजशास्त्र में 102, सैन्य विज्ञान में 42, इतिहास में 41, विधि में 41, शस्य विज्ञान में 13, गणित में 96, संगीत तबला में 2, मानव शास्त्र में 1, संगीत वादन में 1, संगीत सितार में 1 एवं महिला अध्ययन के 1 पद पर भर्ती होगी। उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग की ओर से विज्ञापन संख्या-46 के तहत भूगर्भ विषय के एक खाली पद के लिए भी आवेदन लिया जाएगा।

ऑनलाइन आवेदन का लिंक – Apply Here

प्राचार्य के 290 पदों पर भर्ती के साक्षात्कार शुरू
अशासकीय सहायता प्राप्त महाविद्यालयों में प्राचार्य के 290 पदों पर साक्षात्कार शनिवार से शुरू हो गया। उत्तर प्रदेश उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग में साक्षात्कार के साथ ही अभ्यर्थियों के अभिलेखों का सत्यापन कार्य भी होता रहा। इस दौरान किसी भी बाहरी व्यक्ति को आयोग परिसर में जाने की अनुमति नहीं थी। पहली बार लिखित परीक्षा और साक्षात्कार के बाद प्राचार्यों का चयन हो रहा है। आयोग ने 2015 में यह व्यवस्था लागू की थी। दो तीन बार प्राचार्य भर्ती के लिए आवेदन भी लिए लेकिन भर्ती शुरू नहीं हो पा रही थी। अब तक तकरीबन छह साल बाद नई व्यवस्था से चयन हो रहा है। हालांकि कुछ लोग लिखित परीक्षा का विरोध भी कर रहे हैं। उनका कहना है कि प्राचार्य का पद प्रशासनिक है तो इसके लिए विषय की लिखित परीक्षा कराने का क्या औचित्य।




Copyright © 2018-2025 RojgarTak.com All Rights Reserved RojgarTak